सानिया मिर्ज़ा की जीवनी ( संघर्ष, करियर, बायोग्राफी, अचीवमेंट, कमाई )

आज के इस लेख में हम जानेंगे सानिया मिर्ज़ा की जीवनी, बायोग्राफी, जीवन के संघर्ष, मेडल तथा अचीवमेंट, और भी बहुत कुछ।

इस दुनिया में हर किसी के पास यह मौका और अधिकार होता है की वह अपने जीवन को वह जैसा चाहता है वैसा बना सकता है। क्योकि हम अपने जीवन में वो सबकुछ कर सकते है जो हम सोच सकते है। हमारे पास यह चुनने का पूरा अधिकार होता है की हम अपनी जिन्दगी की तरह से चाहते है, इस दुनिया में ऐसे बहुत कम ही होते है जो अपने हाथो को लकीरों से अधिक आपनी मेहनत पर भरोसा करते है। 

इस आर्टिकल में हम एक ऐसी महिला खिलाड़ी के जीवन के बारे में जानेंगे। जिन्होंने अपनी मेहनत से इस दुनिया को बता दिया की अगर इन्सान चाहे तो वह कुछ भी कर सकता है, हम जिस भी फील्ड में आगे बढ़ना चाहता है और सफल होना चाहते है। उसमे सफल होने के लिए हमें सिर्फ अपने उपर भरोसा करते हुए तथा मार्ग में आने वाली मुश्किलों का सामना करते हुए आगे बढ़ते जाना है। ऐसा ही कुछ अपने जीवन में कर दिखाने वाली सानिया मिर्ज़ा का जीवन परिचय हम जानेंगे।

सानिया मिर्ज़ा बायोग्राफी

1 Full Name Sania Mirza Malik
2 Birth Date 15 November ( 1986 ) 
3 Birth Place Mumbai, India
4 Father / Mother Imran Mirza / Naseema Mirza
5 Educational Qualification Graduate From St. Mary’s College, Hyderabad
6 Height 173 cm ( 5’8” ) 
7 Weight 57 Kg’s
8 Husband Shoaib Malik
9 Net Worth 185 Cr. ( $25 Million )
10 Nationality Indian

 

बचपन तथा परिवार

विश्व की सबसे बेहतरीन टेनिस खिलाडी सानिया मिर्ज़ा का जन्म 15 नम्बर 1986 को मुंबई महाराष्ट्र में हुआ था। लेकिन जब सानिया छोटी ही थी तब इनके पिता जिनका नाम इमरान मिर्ज़ा है। उन्हें काम के सिलसिले में हैदराबाद में रहने के लिए आना पडा था, सानिया की माँ का नाम नसीमा मिर्ज़ा है। सानिया के साथ उनके पर्रिवार में उनकी एक बहन भी है जिनका नाम अनम मिर्ज़ा है।

सानिया के पिता पेशे से एक स्पोर्ट जर्नलिस्ट थे, जबकि सानिया की माँ एक प्रिंटिंग के व्यवसाय में काम करती थी। चूँकि सानिया के पिता एक स्पोर्ट जर्नलिस्ट थे, इसलिए सानिया को भी बचपन से ही खेलो में दिलचस्पी थी। लेकिन उन्हें बचपन में बाकि दुसरे खेलो की मुकाबले टेनिस का खेल सबसे अधिक पसंद था। 

 

सानिया मिर्ज़ा की शिक्षा तथा शुरूआती जीवन

वैसे देखा जाए तो सनिया के माता – पिता दोनों नौकरी करते थे, इस कारण से सानिया के परिवार के आर्थिक हालात स्थिर थे। चूँकि सानिया के पिता काम के सिलसिले में परिवार सहित मुंबई से हैदराबाद शिफ्ट हो गये थे। इसलिए सानिया ने भी अपनी शुरूआती पढ़ाई हैदराबाद के Nasr School से की थी, सानिया बताती है की स्कूल के उन्ही दिनों में उसे टेनिस खेल से जबरदस्त लगाव हो चूका था। वही से उन्हें इस खेल मी करियर बनाने की प्रेरणा मिली थी। सानिया ने अपनी ग्रेजुएशन  St. Mary’s College, Hyderabad से पूरी की थी। इसी के साथ साथ वर्ष 2008 में सनिया मिर्ज़ा ने Dr. M.G.R. Educational and Research Institute in Chennai से  honorary degree of Doctor of Letters  की डिग्री भी प्राप्त की है। वैसे तो सानिया ने अपने स्कूल के दिनों से ही मात्र 6 वर्ष की उम्र से ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। 

 

सानिया मिर्ज़ा : करियर और सफलता

वैसे देखा जाए तो सानिया ने अपनी स्कूल तथा कॉलेज की दिनों से ही बहुत से टेनिस स्पर्धाओ में हिस्सा लिया और अपनी खेल को बेहतर करती रही। लेकिन असल में सानिया ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1999 में विश्व जूनियर टेनिस चैम्पियनशिप में हिस्सा लेकर की थी। यहा सानिया ने अच्छा प्रदर्शन किया जिसके बाद उनके बारे में लोग जानने लगे थे। सानिया मिर्ज़ा ने इसके बाद में कुछ अंतर्राष्ट्रीय मैचो में हिस्सा लिया और बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जीत भी हासिल की थी। 

  • वर्ष 2003 समय उनके करियर के लिए रोमांचक रहा था, जब भारत की ओर से सानिया मिर्ज़ा को वाइल्ड कार्ड से विम्बलडन में एंट्री और उन्होंने इसमें जीत भी हासिल की थी। 
  • वर्ष 2005 के आखिर में सानिया मिर्ज़ा की टेनिस में अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग 42 हो गयी थी, जो की उस समय किसी भी भारतीय टेनिस खिलाड़ी के लिए सबसे ज्यादा थी। 
  • इसके बाद वर्ष 2006 दिसम्बर में सानिया मिर्ज़ा ने दोहा में हुए एशियाई खेलों में  लिएंडर पेस के साथ मिश्रित युगल का स्वर्ण पदक जीता था। 
  • इसी की साथ सानिया ने महिलाओं के एकल मुक़ाबले में दोहा में होने वाले एशियाई खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए रजत पदक जीता। 
  • इसके बाद सानिया मिर्ज़ा वर्ष 2009 में भारत की तरफ से ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनीं थी। 

देखते ही देखते सानिया मिर्ज़ा भारत के लिए वह टेनिस खिलाडी बन गयी थी, जो की टेनिस के हर मुकाबले में भारत का बड़े ही बेहतरीन तरीके से प्रतिनिधित्व करती रही। उन्होंने कई सारे मुकाबलों में बेहतरीन खेल दिखाते हुए स्वर्ण और रजत पदक अपनी नाम किये, वर्तमान में भी सानिया मिर्ज़ा को भारत के टेनिस खिलाडियों में सबसे बेहतरीन माना जाता है। 

 

सानिया मिर्ज़ा के अचीवमेंट्स

  1. टेनिस में उनकी बेहतरीन प्रदर्शन के लिए वर्ष 2004 में, सानिया मिर्ज़ा को भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  2. वर्ष 2006 में सानिया मिर्ज़ा को पद्म श्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था, जो एक टेनिस खिलाड़ी के रूप में उनकी उपलब्धियों के लिए भारत का चौथा सर्वोच्च सम्मान है। 
  3. टेनिस में सानिया मिर्ज़ा के बेहतरीन प्रदर्शन के चलते उन्हें वर्ष 2005 में डब्ल्यूटीए पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। 
  4. सानिया मिर्ज़ा को टेनिस खेल में उत्कृष्टता के लिए हैंदराबाद महिला दशक एचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया है। 
  5. सनिया मिर्ज़ा को Dr. M.G.R. Educational and Research Institute in Chennai से डॉक्टरेट की उपाधि भी प्रदान की गयी है। 

 

निजी जीवन

वैसे सानिया के जीवन में विवादों के लिए हमेशा से ही स्थान रहा है, क्योकि वर्ष 2009 में सानिया मिर्ज़ा की सगाई उनके बचपन के दोस्त सोहराब मिर्जा से हुई थी। लेकिन कुछ आपसी मतभेद के चलते इन दोनों की सगीर जल्द ही टूट गयी। जिसके बाद खबरे आने लगी की सनिया पाकिस्तान के क्रिकेटर शोएब मालिक से साथ रिलेशन में है। हालाँकि कुछ ही समय बाद 12 अप्रैल 2010 को शोएब मालिक और सानिया मिर्ज़ा ने शादी कर ली। कई सारे विवाद होने के बावजूद सानिया और शोएब एक दुसरे के साथ खड़े रहे, वर्तमान में दोनों की शादीशुदा जिन्दगी बेहतरीन है। 

यह भी पढ़ें

विराट कोहली का जीवन परिचय

महेंद्र सिंह धोनी जीवनी

रोहित शर्मा का जीवन परिचय

ऋषभ पंत का जीवन परिचय 

ईशान किशन जीवनी

सूर्यकुमार यादव जीवनी

मिताली राज जीवन परिचय

स्मृति मंधाना जीवन परिचय

नीरज चोपड़ा जीवन परिचय

पी. वी. सिन्धु जीवनी

 

निष्कर्ष

कहते है की किस्मत हाथो की लकीरों से नही बल्कि मेहतन करने से बनती है। अगर इन्सान चाहे तो कड़ी मेहनत और खुद पर भरोसा करते हुए अपने जीवन में हर मुकाम को हासिल कर सकता है। सनिया मिर्ज़ा भी उन लांखो लोगो के लिए उदहारण है जो की धर्म के नाम पर लडकियों को आगे बढने से रोकते है। लेकिन सानिया अपने जीवन से आज लांखो लडकियों को समाज के खोखले नियमो को तोड़ते हुए आगे बढने के लिए प्रेरित करती है। हम आशा करते है की आपको सानिया मिर्ज़ा की जीवनी अवश्य ही पसंद आई है। यदि आपको सानिया का जीवन परिचय पसंद आया है। तब आप इसे अपने दोस्तों और विशेष रूप से उन्हें अवश्य ही साझा करे जिन्हें टेनिस का खेल बहुत पसंद है। 

Leave a Comment

You cannot copy content of this page