रोहित शर्मा का जीवन परिचय तथा उनकी बायोग्राफी

इस आर्टिकल में हम रोहित शर्मा का जीवन परिचय तथा उनकी बायोग्राफी जानेंगे।

यदि हम हमारे देश भारत में प्रसिद्द क्रिकेट खिलाडियों की बात करे, तब उनकी संख्या हजारो की तादाद में है। लेकिन ऐसे बहुत कम क्रिकेटर है जिन्होंने अपने जीवन की शुरुआत बेहद ही साधारण परिस्थितियों के साथ की थी, तथा उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और बेहतरीन खेल के दूँ पर भारतीय क्रिकेट जगत में अपना अलग ही मुकाम हासिल किया है। हमारे देश में ऐसे कुछ ही चुनिन्दा क्रिकेटर है।

जो सिर्फ और सिर्फ अपने टेलेंट और मेहनत के दम पर क्रिकेट जगत में अपनी छाप छोड़ने में कायम रहे है। ऐसे ही एक प्रसिद्द क्रिकेटर है जिनका नाम रोहित शर्मा है जिन्हें आज भारत का हर बच्चा जो क्रिकेट में अपना सफल करियर बनाना चाहता है। वो रोहित से ही प्रेरणा लेता है की वह भी साधारण परिस्थितियो से निकलकर एक सफल क्रिकेटर बने।

रोहित शर्मा का बचपन तथा परिवार

हम सभी के सबसे चहेते और पसंदीदा क्रिकेटर रोहित शर्मा का जन्म 30 अप्रैल साल 1987 को महाराष्ट्र के नागपुर में एक माध्यम वर्गे परिवार में हुआ था। रोहित के पिता है नाम गुरुनाथ शर्मा है जो की एक ट्रांसपोर्ट कंपनी में केयरटेकर का काम करते थे।

रोहित शर्मा की माँ का नाम पूर्णिमा शर्मा है जो की एक गृहणी थी, रोहित के परिवार के आर्थिक हालात शुरुआत से ही अच्छे नही थे रोहित ने अपना बचपन बेहद ही आर्थिक तंगी भरे हालातो में व्यतीत किया था।  चूँकि उनके परिवार के आर्थिक हालात अच्छे नही थे, इसलिए रोहित को बचपन में ही उनके पिता ने रोहित को उनके दादा – दादी के पास पढने के लिए भेज दिया था। रोहित को क्रिकेट खेलना का शौक तो बचपन से ही था, वे अपने दादा – दादी के साथ बोरीवली में रहते थे।

रोहित शर्मा का शुरूआती जीवन तथा शिक्षा

यदि हम रोहित शर्मा के शुरूआती जीवन के बारे में बात करे तो रोहित को बचपन से ही क्रिकेट में गहरी रूचि थी। रोहित का क्रिकेट के प्रति इतना जूनून देखकर उनके अंकल ने रोहित की उनके शुरूआती समय में आर्थिक मदद करते हुए साल 1999 में रोहित को क्रिकेट अकादमी ज्वाइन करायी। यहा पर रोहित को वो कोच मिले जो उन्हें जीवन में बहुत आगे ले जाने वाले थे जिनका नाम दिनेश लाड़ था।

जिन्होंने क्रिकेट के प्रति रोहित का बेहतरीन लगाव देखा और रोहित के खेल को बेहतर बनाने में जुट गये। रोहित के कोच दिनेश ने शुरू में उन्हें उनका स्कूल बदलकर Swami Vivekananda International School में दाखिला लेने की सलाह दी थी, क्योकि इस स्कूल में क्रिकेट का अच्छा माहौल था। जहा से रोहित को आगे बढने के मौके मिल सकते थे, शुरुआत में उनके कोच दिनेश ने रोहित की बहुत मदद करते हुए उन्हें दाखिला लेने के लिए स्कालरशिप भी दिलाई थी।

रोहित शर्मा का शुरुआती संघर्ष तथा क्रिकेट करियर

चूँकि रोहित शर्मा ने अपने कोच दिनेश लाड़ के कहने पर स्वामी विवेकानंद स्कूल में दखिला ले लिया था, यहा पर रोहित पढाई करने के साथ साथ हर दिन में अपने खेल में बहुत सुधार ला रहे थे। रोहित ने शुरुआत में क्रिकेट में एक ऑफ स्पिनर से शुरुआत की थी, परन्तु उनके कोच दिनेश लाड़ के कहने पर उन्होंने बल्लेबाजी भी करना शुरु कर दी थी।

रोहित को अब गेंदबाजी से अधिक रूचि बल्लेबाजी में आने लगी थी, इसके बाद रोहित अपनी टीम के लिए ओपनिंग करने लगे, यही से रोहित शर्मा ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत बतौर ओपनर की थी। उन्होंने स्कूल में होने वाले क्रिकेट टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन से शतक भी लगाया था।  रोहित ने अपनी पढाई के साथ सतह इन 4 सालो में क्रिकेट के खेल की हर बारीक से बारीक़ चीज़ को बड़ी ही लगन से सीखा था।

रोहित की कड़ी मेहनत उनकी बल्लेबाजी में साफ दिखाई देती थी।

कुछ तथ्य

  • रोहित शर्मा ने साल 2005 की देवधर ट्राफी में वेस्ट जोन की से खेलते हुए अपने डोमेस्टिक करियर ही शुरुआत की थी।

  • रोहित ने डोमेस्टिक करियर का अपना पहला मैच सेन्ट्रल जोन के खिलाफ ग्वालियर में खेला था।

  • इसके बाद रोहित ने नार्थ जोन के खिलाफ 123 गेंदों में 142 रनों की शानदार पारी खेली और कुछ लोकप्रियता हासिल की थी।

  • इसके बाद रोहित के बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए रोहित को India A के टीम के लिए चुन लिया गया था।

  • India A की टीम में अच्छे प्रदर्शन के दम पर रोहित को Champions trophy के लिये चुने जाने वाले संभावित 30 खिलाडियों में भी चुना गया था।

इसके बाद

\रोहित शर्मा ने रणजी क्रिकेट में अपना पदार्पण साल 2006 – 07 में किया था।  रोहित को इसके पहले ही चैंपियंस ट्राफी के संभावित खिलाडियों में शामिल किया गया था।  इससे ये बात तो साफ़ थी की रोहित में शुरुआत से ही टेलेंट की कोई कमी नही थी।  क्योकि उनको रणजी खेले बगैर की चैंपियंस ट्राफी के संभावित खिलाडियों में शामिल कर लिया गया था। चलिए अब हम रोहित के अन्तराष्ट्रीय करियर के बारे में जानते है।

  • रोहित शर्मा ने साल 2007 में आयरलेंड के खिलाफ वनडे सीरीज से अपने अन्तराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी।

  • साल 2007 में ही रोहित ने T-20 वर्ल्ड कप में साउथ अफीका के खिलाफ अपने टी-20 करियर शुरुआत की, इस इस मैच में उन्होंने 40 गेंद पर 50 रनों की मैच जिताऊ पारी खेली थी। जो आगे चलकर उनके करियर के लिए बहुत अच्छा साबित हुआ और यही रोहित के क्रिकेट करियर का एक तरह से टर्निंग पॉइंट था,

  • इसके बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए सीरिज में दो अर्धशतक भी लगाए थे।

  • रोहित शर्मा ने साल 2010 में जिम्बाबे के खिलाफ खेलते हुए लगातर दो मैचो में बेहतरीन शतक लगाये थे, यही से उन्होंने भारतीय टीम में अपनी जगह पक्की कर ली थी।

इसके बाद साल 2013 में रोहित को चैंपियंस ट्राफी में शिखर धवन के साथ ओपनिंग करने का मौका मिला और उन्होंने इस सीरिज में बेहतरीन प्रदर्शन किया और भारत ने साल 2013 की चैंपियंस ट्राफी अपने नाम की थी।

क्रिकेट में रोहित शर्मा का रिकार्ड्स और मान – सम्मान

चलिए अब हम रोहित शर्मा के कुछ रिकोर्ड्स तथा उनको मिले मान – सम्मान के बारे में जानते है। जो की उन्हें क्रिकेट जगत में अपने योगदान और बेहतरीन प्रदर्शन के लिए प्राप्त हुए है।

  • रोहित शर्मा पूरी दुनिया में एकमात्र ऐसे क्रिकेटर है जिनके नाम वनडे क्रिकेट में 3 दोहरे शतक लगाने का रिकार्ड है।

  • रोहित एकमात्र ऐसे बल्लेबाज है जिनके नाम वनडे क्रिकेट के मैच में सर्वाधिक 264 रनों का रिकार्ड है, जो उन्होंने कोल्कता में श्रीलंका के रिरुद्ध खेलते हुआ बनाया था।

  • साल 2015 में रोहित को क्रिकेट जगत में उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया गया है।

  • रोहित को ICC द्वारा वनडे Player of the year के अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है।

  • साल 2020 में रोहित को मेजर ध्यानचंद खेल रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया है।

 

निजी जीवन

रोहित शर्मा ने साल 2015 में रितिका सजदेह से शादी की है, रोहित की एक बेटी भी है जिसका नाम समाईरा शर्मा है। हम आपकी जानकारी के लिए बता दे की की रोहित की पत्नी रितिका एक तरह से युवराज सिंह की रिश्ते में एक बहन है। हालाँकि वे युवराज सिंह की सगी बहन नही है।

यह भी पढ़ें

विराट कोहली का जीवन परिचय

महेंद्र सिंह धोनी जीवनी ( बचपन, करियर, रिकॉर्ड्स, कमाई )

निष्कर्ष

हमारे देश में क्रिकेट के खेल को सबसे अधिक पसंद किया जाता है, रोजाना हजारो युवा इसमें अपना करियर बनाने के सपने बुनते है। लेकिन बहुत कम ही होते है, जो भारत के लिए खेल पाते है, रोहित शर्मा हमारे भारतीय क्रिकेट जगत के ऐसे ही एक खिलाडी है। जिन्होंने ने बेहद ही साधारण परिस्थितियों से अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी और वो हमारे देश के लिए क्रिकेट में अपने खेल से महत्वपूर्ण योगदान दे रहे है।

हम आशा करते है की रोहित आने वाले वर्षो में और बेहतर प्रदर्शन करे और भारतीय क्रिकेट को नयी ऊंचाईयो पर लेकर जाए। हमें उम्मीद है की आपको आज का ये आर्टिकल रोहित शर्मा का जीवन परिचय अवश्य ही पसंद आया है। यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया है, आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के शेयर अवश्य करे।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page